Meaning And Method of Mindfulness Meditation (In Hindi)

सरल भाषा में, जब आपके मन में विचार और भावनाएँ आती हैं, लेकिन आप उनके साथ बहे बिना उन्हे अपने मन में से होकर गुज़र जाने देते हैं, तो आप माइंडफुलनेस की स्थिति में होते हैं।

Meaning of Mindfulness (In Hindi)
माइंडफुलनेस का अर्थ (हिंदी में)

माइंडफुलनेस हमारे और हमारे आस-पास की दुनिया की पल-पल की जागरूकता हैं। इसका अर्थ यह हैं कि आप अपने और आपके आसपास क्या हो रहा हैं, इस पर ध्यान दे रहे हैं और उन से सचेत हैं।

माइंडफुलनेस वर्तमान क्षण में केंद्रित जागरूकता की स्थिति हैं, जो आपके मन को भविष्य और अतीत दोनों से दूर रखता हैं।

हालाँकि हमें उस परिभाषा में यह भी जोड़ना होगा: जब आप अपने अंदर उठने वाले विचारों की उत्सुकता से जांच करते हैं, तब आपको यह भी सुनिश्चित करना होगा कि आप उन विचारों को बिना किसी मूल्यांकन के ही जांच करें।


Powered by TinyLetter


माइंडफुलनेस में स्वीकार्रता भी शामिल हैं, जिसका अर्थ हैं कि हम अपने विचारों और भावनाओं को हम पूरी तरह स्वीकार करते हैं, बिना किसी ऐसे धारणा के कि हमारे उस पल में सोचने या महसूस करने का केवल वही “सही” या “गलत” तरीका हैं। जब हम माइंडफुलनेस का अभ्यास करते हैं, तो हमारे विचार अतीत की पुनरावृत्ति या भविष्य की कल्पना करने के बजाय वर्तमान क्षण में हम क्या महसूस करते हैं, इस पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

माइंडफुल होकर भोजन करना: जब हम भोजन कर रहे होते हैं, तब प्रत्येक समय जिज्ञासा और गैर-मूल्यांकन के साथ अपने भोजन पर ध्यान देते रहना माइंडफुल ईटिंग या माइंडफुल होकर भोजन करना होता हैं। माइंडफुल ईटिंग का अंतिम उद्देश्य वह होता है जहाँ हम इस समय अपने भोजन के साथ, खाने के साथ, पूरी तरह से उलझे रहते हैं।

Mindfulness in Hindi

How To Do Mindfulness Meditation (In Hindi)
माइंडफुलनेस मेडिटेशन कैसे करें (हिंदी में)

1. सहज हो जाएं

एक शांत जगह खोजें जहाँ आप परेशान नहीं होंगे। आदर्श रूप में यह आपके घर का एक कमरा होगा जहाँ आप अकेले और शांति से हो सकते हैं।

2. उचित मुद्रा में आएं

आप फर्श पर एक कुशन (हल्का तकिया) रखते हुए उस पर क्रॉस-लेग्ड (आलथी-पालथी) बैठ सकते हैं, या एक कुर्सी पर सीधी स्थिति में बैठ सकते हैं। कुछ लोग लेटने की मुद्रा में ध्यान करना पसंद करते हैं।

Video by HIP.

3. तनावमुक्त हो जाएं

यदि आप अपना माइंडफुलनेस अभ्यास शुरु कर रहे हैं, तो अपने फोन पर पाँच मिनट के लिए एक टाइमर सेट करें। अपनी आँखें बंद करें और धीमी और गहरी साँसें लेना शुरू करें। नाक से गहरी (लेकिन स्वाभाविक रूप से) सांस लें और नाक या मुंह से बाहर निकलें-जो भी आपको अधिक आरामदायक लगे। अपनी गहरी सांसों को अपने पेट के निचले हिस्से की ओर प्रवाहित करें।

4. अपनी सांसों पर ध्यान दें

जैसे ही आप सांस अंदर लेते हैं और सांस छोड़ते हैं, अपनी सांसों की आवाज से खुद को अवगत कराएँ। जैसे ही आप सांस अंदर लेते हैं, सोचें कि आप अपने आस-पास की सभी शांतिपूर्ण और आनंदमय चीजों को अपने श्वास के माध्यम से अंदर ले रहे हैं। जैसे ही आप-आप साँस छोड़ते हैं, सोचें कि आप अपने मन और शरीर को उन सभी तनाव और विषाक्त विचारों से छुटकारा ले रहे हैं जो आपको परेशान कर रही थीं। अपने मन को अपनी सांसों की लय में मंत्रमुग्ध हो जाने दें।

5. अपने विचारों को वापस केंद्र में लाएं

आपका मन भटक जाएगा। जब आप अपने विचारों को अपनी सांस से दूर भटकते हुए देखते हैं, तो अपने आप को फटकारें नहीं-यह पूरी तरह से सामान्य है। बस इसे स्वीकार करें और अपना ध्यान वापस अपनी सांसों पर केन्द्रित करें। अपने आस-पास के वातावरण को अपनी सांस में अवशोषित करें। आप क्या सुन सकते हैं? इस समय आप क्या महसूस कर रहे हैं? अपने अतीत को खुद पर हावी न होने दें। कृपया भविष्य की भी चिंता न करें। केवल इस शुद्ध क्षण में उपस्थित रहें।

6. एक प्रतिबद्धता बनाएं

व्यायाम की तरह, माइंडफुलनेस मेडिटेशन के लिए अभ्यास की आवश्यकता होती है और जितना अधिक हम अभ्यास करते हैं, उतना ही बेहतर होता है और हमारी माइंडफुलनेस मेडिटेशन की क्षमता मजबूत हो जाती है। अनुसंधान से पता चलता है कि सिर्फ आठ सप्ताह के ध्यान अभ्यास (प्रति दिन केवल पांच से दस मिनट) के बाद ही मानसिक शांति में एक बड़ा अंतर बनता है।

माइंडफुलनेस कैसे अभ्यास करें? जाने कैसे आप माइंडफुलनेस मेडिटेशन को सात आसान कदमों में सीख सकते (in English), एवं औरों को सीखा सकते हैं।

• • •

What Is Mindfulness Meditation?
How To Overcome Low Self-Esteem With Mindfulness?

• • •

Author Bio: Written and reviewed by Sandip Roy—a medical doctor, psychology writer, and happiness researcher. Founder and Chief Editor of The Happiness Blog. Writes popular science articles on happiness, positive psychology, and related topics.


• Our Happiness Story


If you enjoyed this, please share it on Facebook or Twitter or LinkedIn.